Devji Blog

Friday, September 22, 2017

10 Things You Should Do When You Find The Right Partner, Without Hesitation

September 22, 2017 0

Our whole lives, we keep searching for “the perfect partner”, “the right person”, or “the one”—you can see that it's a lot of weight we put on one person and the ways in which they are going to affect our lives. They become paramount; second to nothing and no one, period. But, while on our quest to find this person, we put so much effort and focus into deciding whether or not they are the right partner, that we forget what to do once we've checked off the list of things that qualify them as one. What happens after you've decided that this is “the one”—even if it's just for the moment? Do you pick up another checklist to sift through? Or do you merely sit back and watch what unfolds? Word of advice: Do neither! Instead, when you find the right partner, do all that is in your power—and maybe go a little out of your way, even—to make them stay, and be the right partner in turn, for them.
href="http://devjiblog.com/tag/Never-Stop-Appreciating-Them">1. Never Stop Appreciating Them
When you meet someone who fills you up in all the good ways, remember to appreciate them; whether it's in conversations you have about them with others, or if it's a conversation between the two of you. Never stop telling someone what you like about them. Why? For the simple reason that this person needs to know the way that they affect you.
2. Always Be Grateful For Them
Everyone who comes into our lives does so for a reason. Some of them leave unexpectedly, some of them, we leave. And other times, some leave quite mutually without any prior intimation. It happens. Nothing is ever a coincidence. And if you apply it to a person, then you can be rest assured that the only reason the two of you met was because somewhere, somehow, you were seeking each other out without really knowing it. The problem is once we have someone in our lives, we forget to be thankful for that person. So, the next time you forget to be grateful for him, or her, remember when you wanted them to be a part of your life so much but didn't have that certainty as yet.
3. Never Stop Expressing Your Feelings
More often than not, relationships turn sour because we either spend way too much time concealing how we feel because we don't want to appear vulnerable to the other person. It's become more of a battle of egos over time where we've begun to feel as if the person who expresses their truest feelings and secrets is the one who is weak in a relationship and the one who hides things holds all the cards. It's actually the other way around. And one day, you realize that the only reason something never worked out was because you couldn't muster up the courage to actually tell someone how you felt. And then, all you're left with is a bunch of ‘what-ifs'.
4. And Never Doubt Theirs
Sometimes, the reason why two people are destined to be together has nothing at all to do with reason anyway! Ever think about that? And that inexplicable reason is enough to bind two people together. So, the next time you start second-guessing the whole damn thing and start wondering why they're with ‘someone like you', stop. The important point here is that this person—in all of their being—is with you. Nothing else matters.
5. Meet Their Expectations
We've tailored our brains into not expecting and in turn, not being held responsible; especially when it comes to another person. No wonder today we have concepts like “open relationships”, “no strings attached” and “live-ins” instead of one simple monogamous relationship, or marriage. We don't want to be held accountable. We want easy in-easy out. We don't know what's real anymore because we don't know how to expect and, in turn, meet someone else's expectations. But, when you find your right partner, you want to be there for them; you want to be responsible and you want to prioritize them. And whether they tell you or not, they want the same things. So, put aside your egos and apprehensions and just give them your heart and soul in expecting and meeting expectations with this person. Expectations are good. It means that someone thinks of you being capable of more than just what you may be in a moment.
6. Be Sensitive To Them
You have the power to affect a person; just like one person has the power to affect you. We are human. We were created to connect with other humans. So if someone affects you—emotionally, physically, mentally and spiritually; and vice versa, be more attuned to this sensitivity. And know the affect you cause on a person. Then, work with that and this person's best interest in mind. It's not just about you anymore. If it was, then you wouldn't be with this person. So, stop disconnecting with it and ignoring that. This is probably the one time that ignorance won't lead to bliss.
7. Pay Attention To Them
You are here. They are here. All of time has come to exist in this one moment which can be infinite. Understand this. And be present. Pay more attention this person—what they're saying, where they are, what they're doing and whether or not the two of you are in each other's peripheries. Truth is, you always are, even when they're not physically around. But, the problem is we tend to let go when they're out of sight; it's not that you don't care because you do; it's not that you're not thinking about them because you can't stop doing that. But, you're really not doing anything beyond that are you? Maybe pick up the phone and tell them you're just thinking about them. There doesn't always have to be a reason more concrete than that. It doesn't matter what time in the day, or night it is. Just be there and let them know that you are.
8. Don't Get Scared
Fear can never be greater than faith. Go back to the first time you met this person; to the way they made you feel—the joy and the curious certainty with which you began to look forward to every minute spent with them. You weren't scared; you knew what you wanted. Look at you now—you have each other, just what you wanted. So what do you have to fear now? That it will somehow go wrong? That it's too good to be true? That they don't deserve you and vice versa? Think about this: everything in the past has gone wrong so in the present, thing can go right. Sometimes, the truth is as good as it gets; the Universe isn't out to get you—it's quite the contrary I assure you. So, don't be scared because when two people who want to be together, are together, they can overcome the sum of all fears.
9. Fight For It
Never stop fighting for them and what you have. You believed in it in the beginning. You saw the magic that could happen just by being with this someone. So remember that and stick to that. Remember the way this person made you feel even if it was the tiniest amount of goodness for the least amount of time. If it was enough to draw you to them and them to you, it is enough to get you through the roughest of patches. Remember wanting to put them above and beyond all else and remember the promises you secretly made without them knowing. Sometimes, a person; a connection is deeper and larger than the worst mistakes you make. If, at the end of the road, you still see yourself with this person; even if that's as bleak a possibility as any and you just so much as desire it, then, fight for it till your last breath.
10. Be Unconditional
Feelings come. They have no rhyme; no reason and function unconditionally. You won't stop loving someone if they do something wrong, or make a mistake; or unintentionally hurt you. It doesn't work that way. You love them despite it all. That's the only point of finding yourself being with the right person at the right time. That it's unconditional. The day you find yourself putting conditions to your feelings, know that you're either doing it wrong, or you never got it right to begin with. But, if it's unconditional, then just stick to that. And then, let it unfold.
Read More

Thursday, September 21, 2017

Apple iPhone 8 may not come with a Touch ID sensor; supply constraints also expected: Report

September 21, 2017 0

Apple Inc’s new iPhone had hit production glitches early in its manufacturing process and could lead to supply shortfalls and shipping delays following its launch next week, the Wall Street Journal reported on Thursday. The report also goes on to state that the Apple iPhone 8 will most likely ditch the Touch ID sensor.
iPhone 8 render

The Touch ID sensor which was introduced back in 2013, is expected to be replaced by facial recognition according to Bloomberg. But nothing is certain on that front either.
The production glitches pushed the manufacturing process back by about a month, the Journal reported, citing people familiar with the matter. According to the report, Apple has faced production delays while trying to embed the Touch ID sensor.
The company is widely tipped to adopt higher-resolution OLED displays for the latest iPhone, along with better touchscreen technology and wireless charging — which could come with a $1,000 plus price tag.
Recently, there were reports of Apple looking for a partner apart from Samsung to source its OLED panels from. The primary reason for this need for the new supplier is the immense bargaining power that the current situation provides Samsung with. According to a report by AppleInsider, Ming-Chi Kuo, an analyst with KGI Securities pointed that Apple may be paying $120-$130 for each OLED display panel instead of the price of $45-$55 for the LCD panels being used in iPhone 7 Plus.
“There never appears to be a shortage of chatter about alleged production glitches at Apple but they seem to be able to crank out tens of millions of iPhones each quarter,” BTIG analyst Walter Piecyk said in an email.
“I also doubt someone interested in a new iPhone will change brands if they have to wait a few months,” he added.
According to TheVerge, Apple iPhone 8 might launch at a later date as compared to the iPhone 7s and the iPhone 7s Plus.
Fans and investors are eagerly looking forward to the 10th anniversary iPhone 8 to see whether it will deliver enough new features to spark a new generation to turn to Apple.
The company’s shares closed down 0.4 percent at $161.26. Apple did not respond to a request for comment.
Meanwhile, journalists have started receiving invites for a 12 September event at the newly opened Steve Jobs Theatre in Cupertino. This will be the first official event that Apple will be holding at the location. The Steve Jobs Theater is a 1,000-seat auditorium with a 20-foot tall glass cylinder at the entrance, at Apple's new disc shaped facility known as Apple Park. The Steve Jobs Theatre is located in one of the highest points on the Apple Park campus, overlooking meadows and the main facility.
Two of the new devices are expected to be the iPhone 7s and the iPhone 7S Plus, updates to last year's iPhone models. Another iPhone is expected to be unveiled with cutting edge features and specifications, to mark 10 years of the iconic device. Here is what we know so far about the 12 September event.
With inputs from Reuters

Read More

Wednesday, September 20, 2017

अफसोस मयूरग्राम : तुम्हारी खबर, खबर होने लायक नहीं है .....

September 20, 2017 0


अफसोस मयूरग्राम :
तुम्हारी खबर, खबर होने लायक नहीं है .....

#कोलकाता से 240 किलोमीटर उत्तर बीरभूम जिले में #मुर्शिदाबाद से सटे नलहाटी के पास मयूरग्राम नाम का एक गांव होता था हाल-फिलहाल तक। 1990 के दशक में यहां 280 हिंदू परिवार और सिर्फ 15 मुस्लिम परिवार थे। सारे मुस्लिम परिवार भूमिहीन थे और बंटाई पर खेती करते थे। इसके बाद इन्होंने अपने बांग्लादेशी रिश्तेदारों को बुलाया और पंचायती व ग्रामसमाज की जमीन पर उनकी झोपड़ियां डलवा दी। 1998 तक गांव में 50 मुस्लिम परिवार हो गए और हालात बदलने लगे। अगले दो-चार साल में संख्या और बढ़ी और उससे ज्यादा तेजी से हिंदू महिलाओं का उत्पीड़न। घर से निकलते ही छेड़छाड़ शुरू हो जाती। कुछेक के साथ बलात्कार की कोशिश भी हुई। थाने में शिकायत करने का कोई नतीजा नहीं निकलता कभी। इसके बाद मुसलमानों ने पूजा पाठ और धार्मिक अनुष्ठानों का भी विरोध शुरू कर दिया। गांव के काली मंदिर के सामने मस्जिद बन गई। मुसलमानों के आपत्ति जताने पर पुलिस ने मंदिर में शंख और ढोल बजाने पर पाबंदी भी लगा दी। उनकी अजान तो खैर चलती ही रही। इसके बाद उन्होंने हिंदुओं के साथ रोजाना गालीगलौज व उन्हें धमकाना शुरू कर दिया। महिलाओं का घर से बाहर कदम रखना दुश्वार हो गया। फिर दुर्गा पूजा बंद करा दी गई और ईद-बकरीद के दिन काली मंदिर के ऐन सामने मस्जिद में गायें कटने लगीं।
1990 के शुरू में जिस गांव में 280 हिंदू परिवार होते थे, 2016 आते-आते सिर्फ 10 शेष बचे। फिर मयूरग्राम थोड़ा सा हिंदू नाम लगा तो उसे भी बदल दिया गया। सरकार ने तेजी से कार्रवाई करते हुए मुसलमानों की मांग पर इसे मोरग्राम कर दिया। गांव के रेलवे स्टेशन का भी नाम अब मोरग्राम है। यह कहानी अकेले मयूरग्राम की नहीं बल्कि बांग्लादेश की सीमा से सटे बहुत से गांवों की है। असम की बराक वैली के सिलचर और करीमगंज जिलों में स्थिति और बदतर है।

यह दिखाता है कि बिना मारकाट किए लो-लेवल की संगठित और सतत हिंसा के क्या फायदे हो सकते हैं। यह तोप-तलवार से ज्यादा प्रभावी है, पीड़ित यह सोचकर ही थाने नहीं जाता कि ये तो रोज ही होना है। और वहां सुनवाई न होने पर एक असहाय शहरी के सामने समर्पण या फिर पलायन के अलावा कोई रास्ता शेष नहीं रहता। ज्यादातर पलायन का विकल्प चुनते हैं।

बंगाल-असम में जो हिंदुओं के साथ हो रहा है, ठीक वहीं यूरोप में यहूदियों के साथ हो रहा है। स्थिति इतनी विकट है कि प्रतिष्ठित पत्रिका "द अटलांटिक" ने अप्रैल 2015 के अंक में कवर स्टोरी छापी , " Is it time for jews to leave Europe"। इस पत्रिका के मुताबिक फ्रांस में सिर्फ एक प्रतिशत यहूदी हैं पर मजहबी/नस्ली हिंसा के 51 प्रतिशत मामलों में शिकार वही होते हैं। स्वीडन में स्थिति और भयावह है। वहां अगर आप यहूदी पहचान के साथ सड़क पर निकले तो मार खाना तय है। ज्यादातर यहूदी अब इजराइल भाग रहे हैं।

यह अलग मामला है कि यहूदियों के खिलाफ हिंसा के ज्यादातर मामले अनरिपोर्टेड ही रह जाते हैं। मीडिया में ये खबर नहीं बनते। इसकी वजह है? एक तो यह कि अल्पसंख्यकों में भी अल्पसंख्यक होने के बावजूद साक्षर व समृद्ध यहूदी समाज की मुख्य धारा में हैं। यह उनका अपराध है। मुस्लिम अप्रवासी, अश्वेत और एलजीबीटी जैसे कुछ तबके सौभाग्यशाली हैं जो लिबरल-लेफ्ट लिबरल समुदाय की ओर से सत्यापित व सूचीबद्ध उत्पीड़ित तबकों में आते हैं। ये सरकार व मीड़िया की ओर से पीड़ित व संरक्षित घोषित किए जा चुके हैं। इनका बाल भी बांका हुआ तो तत्काल संज्ञान लिया जाएगा। मीडिया क्या करे? हमें तो पहले दिन ही सिखाया गया कि कुत्ता आदमी को काटे तो खबर नहीं होती पर आदमी कुत्ते को काट ले तो खबर है। जिसने भी यह थ्योरी दी वह पक्का लिबटार्ड रहा होगा। अब इसका नतीजा देख लें। कुत्ते आपके घर व मुहल्ले में कितनों को भी काट लें, पर आपकी खबर, खबर होने के लायक नहीं। पलायन चाहे मयूरग्राम से हो चाहे मालमो से, सामान्य घटना है। लेकिन अगर आपका नाम अखलाक या जुनेद है तो निश्चिंत रहें। आप सर्टिफाइड विक्टिम हैं, राष्ट्रीय ही नहीं अंतरराष्ट्रीय मीडिया भी आपके साथ होगी ।

हिंदुओं के लिए मैं दो बात कहना चाहूंगा या तो आप संघर्ष करो या अपना बोरिया बिस्तर लेकर समुद्र में कूदने के लिए तैयार रहो । क्योंकि जहा मुसलमान बहुसंख्यक होंगे वहा वो किसी दूसरे धर्म वाले को नहीं रहेंगे देगे । इतिहास इस बात का गवाह है ।
Read More

GST: In Maharashtra, 8 lakh of 9.16 lakh tax paying traders migrate, 2.9 lakh fresh registration

September 20, 2017 0
Mumbai: Maharashtra is on the top position among other states in the country when it comes to migration of existing traders and fresh registrations under the Goods and Service Tax (GST) network.
PTI.
"Out of 9.16 lakh existing taxpaying traders in Maharashtra who had registered themselves under central excise, service tax and value added tax (VAT), around 8 lakh have migrated to the GST network as on August-end," Subhash Varshney, principal chief commissioner, GST and central excise, Mumbai zone told PTI.
"So far, 2.86 lakh traders have already gone for fresh registrations in Maharashtra," he said.
Thus, Maharashtra is on top among other states in terms of migration of existing traders and fresh registrations under GST Network, Varshney said.
Uttar Pradesh (5.93 lakh) has secured second position whereas Tamil Nadu (5.23 lakh) is on the third position in terms of migration of traders through GST network so far, he added.
At the national level, he said, 58.53 lakh traders out of a total of 72.4 lakh traders have got migrated to GST network so far.
When it comes to fresh registration of traders under GST network, Uttar Pradesh (2.54 lakh) and Gujarat (1.16 lakh) have secured second and third positions respectively.
Thus, a significant increase in taxpayers base is expected in the Maharashtra, he said.
The date of filing of the first regular return GSTR-1 under the new GST law was recently extended to September 10 from September 5, to facilitate taxpayers who could not file the returns in time.
To educate and assist taxpayers in filing their returns, the central GST authorities had launched a program of live demo at multiple locations across the city a fortnight ago.
Now, with the extended date of September 10 approaching, the central tax authorities have extended the reach of this program across Maharashtra in co-ordination with state GST authorities.


Read More

Tuesday, September 19, 2017

US shuts down Pakistan's Habib Bank, slaps $225 million fine for flouting terror financing laws

September 19, 2017 0

New York/Karachi: In another jolt to Pakistan, the US has shut down the country's largest lender Habib Bank's operations in New York and slapped a fine of $225 million for its failure to comply with laws aimed to combat money laundering, terrorist financing and other illicit financial transactions.
The action against the Karachi-based Habib Bank comes days after US president Donald Trump said Pakistan provided safe havens to terrorists attacking US and Afghan troops. US Secretary of State Rex Tillerson had also warned Pakistan that it could lose its status as a 'major US ally' and military aid suspended if it continued to back terror groups.
The US Department of Financial Services (DFS), a regulator of foreign banks in the country, said the decision follows a 2016 examination that found weaknesses in the bank's risk management and compliance and the bank's failure to undertake extensive remedial actions required by a 2015 consent order.
"The DFS will not tolerate inadequate risk and compliance functions that open the door to the financing of terrorist activities that pose a grave threat to the people of this State and the financial system as a whole," said Financial Services Superintendent Maria T Vullo.
"The bank has repeatedly been given more than sufficient opportunity to correct its glaring deficiencies, yet it has failed to do so," Vullo said.
She said the DFS will not let Habib Bank "sneak out" of the United States without holding it accountable for putting the integrity of the financial services industry and the safety of the country at risk.
According to a statement issued by the DFS, the New York branch of Habib Bank has continued to fail to comply with a 2006 agreement that arose out of "significant deficiencies" identified within the bank's compliance with economic sanctions laws and with its anti-money laundering compliance, including the Bank Secrecy Act.
"Violations of the 2006 agreement and New York Banking law have occurred almost every year since 2006. DFS's actions today ensure that this misconduct will not continue anymore," the release said.
Habib Bank is Pakistan's largest bank, with $1 billion in total revenues in 2016, and $24 billion in total assets. The New York branch of Habib Bank has been licensed by DFS since 1978, the DFS release said.
The Habib Bank had already agreed to surrender its license to operate a branch in New York and unwind its operations there, Dawn newspaper reported.
The fine of $225 million, which is the largest ever imposed upon a Pakistani bank by regulatory authorities, has to be paid within 14 days. The amount is large, but still far smaller than the $630 million that the regulator had earlier assessed, it said.
Meanwhile, the Habib Bank's senior management remained confident that the episode will soon be a passing affair.
"All charges have been dropped following this consent order," a senior bank officer who did not wish to be identified said.
"Obviously we will have to take this on our books this year. Our capital is strong enough. The underlying business remains strong. HBL agreed to the settlement as protracted litigation was not in the interest of the bank or the country. The charges were not proven, and they have been dismissed," the official said.


Read More

Monday, September 11, 2017

Madani's criticism of Congress is not equal to an endorsement of Narendra Modi

September 11, 2017 0

Jamiat-Ulema-Hind leader Mehmood Madani may have spoken out against Congress and other parties for using secularism as a bait to get the Muslim vote, but he today made it clear it didn't mean he was endorsing Modi as a Prime Ministerial candidate.
In a discussion 'The Buck Stops Here' on NDTV, he said, "Unfortunately, in the current scenario Modi can't be chosen as an option."
However, he also made it clear that Congress and the other 'secular' parties had used a negative propaganda to garner the Muslim vote rather than uplifting the condition of Muslims in India.ms are clear: It is a secularism versus no-alternative de.
"Congress all secular parties are running a negative campaign. Whenever you criticize them they will tell you not to talk so much, as it might get polarized into a Modi issue," Muslim Leader Madani said.
According to him, be it the condition of Muslims in Rajasthan or the condition of Muslim youth in Maharashtra's jails, the condition of Muslims is no better in non-BJP ruled states.
Shahid Siddiqui, editor of Nai Duniya, also said that the Muslims have been pushed into a corner by the secular parties into choosing between non-existent alternatives.
"We have to carry the burden of secularism. They have done in the Muslim worse than Dalits. We are blackmailed into that," he said.
According to him, Congress and other secular parties always resort to the Modi versus secularism debate without looking at their own track record of communalism. "It's secular versus no-option debate."
However, noted lyricist Javed Akhtar appealed to the Indian voter to go beyond the Modi issue and think about the country's future as a whole.
In the same programme, he said, "At the moment you are not fighting against communalism. We are at the moment fighting with a fascist."
Even if one had had grievances against the so-called 'secular' parties that does not mean Narendra Modi goes scot-free for his communal actions, he added.
"Narendra Modi has become a symbol of all that the Sangh Parivar stands for. He is the personification of that ideology. This ideology is not just dangerous for minorities, but is dangerous for the social fabric of the entire country," he said.
Read More

Friday, September 8, 2017

आप के विचार में क्या नोटेबंदी सफल या असफल?

September 08, 2017 4

देश में छूपे कालेधन को बाहर लाने के लिए मोदी सरकार द्वारा 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा के बाद बड़ी मात्रा में कालाधन सामने आता दिखाई दे रहा है। नोटबंदी के बाद आयकर विभाग ने 130 करोड़ रुपए की नकदी और आभूषण जब्त किए हैं। इसके अलावा आयकरदाताओं ने करीब 2,000 करोड़ रपये के बेहिसाबी धन का खुलासा किया है।
केवल जम्मू और कश्मीर में नोतेबंदी के समय जमा होने के लिए आने वाली ९५ प्रतिशत नोट नकली निकली थी व पुरे भारत में भी लगभग १० प्रतिशत नोट नकली निकली थी | करोडो की संख्या में कालेधन वाले पकडे गए व अरबो की संख्या में कालाधन पकड़ा गया न जाने कितने कालेधन कुबेरों पर इनकम टैक्स विभाग ने कार्यवाहिया की गई, कुछ बैंक कर्मचारियों विशेष रूप से एक्सिस बैंक के ब्रांचो में काले धन को सफ़ेद करने वाले भी पकडे गए व कार्यवाहियां भी की गई|

इसे भी पढ़िए : Ratan Tata said to INC Minister Anand Sharma that Politicians could be shameless but not him
आयकर विभाग ने बताया कि करीब 30 मामले प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) और सीबीआई को आगे जांच के लिए सौंप किए गए हैं। आयकर विभाग ने मंगलवार(6 दिसंबर) को बताया कि करीब 30 मामले ईडी और सीबीआई को जांच के लिए सौंपे गए हैं।
केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने बयान में कहा है कि विभाग ने 8 नवंबर के बाद करीब 400 मामलों के जांच में तेजी की है। विभाग, ईडी और सीबीआई द्वारा गड़बड़ियों का पता लगाने का प्रयास कर रहा है।

इसे भी पढ़िए : कौन जिम्मेदार है 63 निर्दोष व मासूम बच्चों की मृत्यु के लिए ?

बयान में कहा गया है कि नोटबंदी के बाद करीब 130 करोड़ रुपए की नकदी और आभूषण जब्त किए गए हैं। साथ ही करदाताओं ने करीब 2,000 करोड़ रुपये की अघोषित आय का खुलासा किया है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत 8 नवंबर को काले धन के खिलाफ एक बड़ी कार्रवाई करते हुए 500 और 1,000 के नोट को बंद करने की घोषणा की थी।

जीएसटी के लागु होने के बाद लगभग १० हजार के ऊपर फर्जी कंपनिया बंद होगई, मात्र उत्तर प्रदेश में लगभग ५० हजार के लगभग नए आयकर दाता नए बने है, तो पुरे भारत में कितने, आप सोच सकते है |
इतना सब होने के बावजूद कुछ चोर व भ्रष्ट्राचारियो जिनका इस नोटेबंदी के कारण काफी नुकसान हो गए लगभग बर्बाद से हो गए है वो अपनी खीझ निकलने के लिए लगातार नोटेबंदी को असफल साबित करने के लिए काफी मजेदार व् रोचक तथ्य व् आंकड़ो जो वास्तविकता से परे है ला -ला कर दुष्प्रचार कर रहे है विपक्ष केवल विरोध ही कर रहा है उसपर चारा-चोर लालू प्रसाद, घोटालो की जननी कांग्रेस, स्वम्भू इमानदार (दो करोड़ की घुस व् १६ हजार की थाली का भोजन करने वाले ) श्री अरविन्द केजरीवाल जी व् शारदा फण्ड के घोटालो में किरकिरी करवाने वाली ममता बनर्जी जैसो इमानदार लोगो द्वारा नोट्बंदी का विरोध करने पर ही इसकी सफलता के सारे सबुत स्पष्ट हो जाते है और इसका कोई अन्य प्रमाण की आवश्यकता ही नहीं रह जाती है|
क्या आप को नोट्बंदी की सफलता पर असमंजस की स्थिति पर है तो भारत के सबसे भ्रष्टतम नेताओ द्वारा इसके विरोध में काफी मजेदार व् रोचक तथ्य व् आंकड़ो को भी सुनकर अविश्वास या संसय रह जाता है क्या आप के मन में? आप के विचार में क्या नोटेबंदी सफल या असफल?
कृपया कारण सहित बताइए कि आप की नजर में नोटेबंदी सफल तो किस वजह से ? असफल तो किस वजह से ?



Read More

Monday, September 4, 2017

2019 में यूपी जीतने के लिए योगी-मोदी कर रहे हैं खास तैयारी, ब्लूप्रिंट हो रहा तैयार

September 04, 2017 0
यूपी में शानदार जीत के बाद बीजेपी 2019 लोकसभा चुनाव के खातिर राज्य में डिवेलपमेंट को भुनाने की तैयारी में जुट गई है। केंद्र सरकार ने प्रीमियर थिंक टैंक नीति आयोग से उन समस्याओं का समाधान सुझाने के लिए कहा है, जिनका सामना यूपी दशकों से कर रहा है। यह जानकारी अधिकारियों ने दी है। वहीं, नीति आयोग के अध्यक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं।
इसे भी पढ़िए : Ratan Tata said to INC Minister Anand Sharma that Politicians could be shameless but not him
उन्होंने बताया कि बिजली और कानून-व्यवस्था अजेंडा में सबसे ऊपर है। इन पर तुरंत ध्यान देने की जरूरत है। एक सीनियर अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया, ‘सरकार यूपी के गवर्नेंस की खातिर कई सुधार करने का इरादा रखती है। इसमें इंफ्रास्ट्रक्चर और बिजनस क्लाइमेट में सुधार जैसे मामले शामिल हैं। इससे यूपी को देश के औद्योगिक नक्शे में जगह दिलाने में मदद मिलेगी।’

आयोग जल्द ही राज्य की समस्याओं की लिस्ट तैयार करेगा और उसके बाद संबंधित मंत्रियों और राज्य सरकार के बड़े अधिकारियों की मीटिंग बुलाई जाएगी। अधिकारी ने बताया कि इससे रुके हुए बड़े प्रॉजेक्ट्स को शुरू करने में मदद मिलेगी। एक अन्य ऑफिशल ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर बताया कि केंद्र और यूपी दोनों जगह बीजेपी की सत्ता है। ऐसे में राज्य के विकास पर काफी जोर होगा।
उन्होंने बताया, ‘बीजेपी सरकार यूपी में विकास को शोकेस करना चाहती है। वह इसे अगले लोकसभा चुनाव में भुनाने का इरादा रखती है।’ उन्होंने बताया कि योगी आदित्यनाथ सरकार इसके लिए केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम करेगी। मकसद राज्य की इमेज को बदलना है। खराब इंफ्रास्ट्रक्चर, एजुकेशन और हेल्थ, बढ़ते अपराध की वजह से पिछले कई दशकों से यूपी पिछड़ा रहा है।

इसे भी पढ़िए : कौन जिम्मेदार है 63 निर्दोष व मासूम बच्चों की मृत्यु के लिए ?
Read More

Friday, September 1, 2017

कौन है रोहिंग्या मुसलमान और क्यों मोदी सरकर इन्हें देश से निकाल रही है ?

September 01, 2017 0

हाल ही में भारत के बोधगया में हुए बम विस्फोटों के बाद रोहिंग्या मुस्लिम सुर्खियों में हैं, लेकिन प्रश्न यह भी है कि आखिर रोहिंग्या मुस्लिम हैं कौन? रोहिंग्या म‍ुस्लिम प्रमुख रूप से म्यांमार (बर्मा) के अराकान में करीब 8 लाख रोहिंग्या मुस्लिम रहते हैं और वे इस देश में सदियों से रहते आए हैं, लेकिन बर्मा के लोग और वहां की सरकार इन लोगों को अपना नागरिक नहीं मानती है, क्योकि रोहिंग्या मुस्लिम ने वहा अव्यष्था पैदा कर दी थी आंतकवाद में शामिल होकर वहा की सरकर के लिए समस्या कड़ी कर दी थी| म्यांमार सरकार ने 1982 में राष्ट्रीयता कानून बनाया था जिसमें रोहिंग्या मुसलमानों का नागरिक दर्जा खत्म कर दिया गया था. जिसके बाद से ही म्यांमार सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को देश छोड़ने के लिए मजबूर करती आ रही है. म्यांमार में एक अनुमान के मुताबिक़ 10 लाख रोहिंग्या मुसलमान हैं. इन मुसलमानों के बारे में कहा जाता है कि वे मुख्य रूप से अवैध बांग्लादेशी प्रवासी हैं. बिना किसी देश के इन रोहिंग्या लोगों को सबसे बड़ी समस्या रोहिंग्या विस्थापितों के इस्लामी हमदर्दों की है, जो पाकिस्तान के अपने सुरक्षित अड्डों में बैठकर उनकी दुर्दशा को 'इस्लाम-विरोधी अंतरराष्ट्रीय षड्यंत्र' की तरह पेश करते हैं। उनसे निपटने चुनौती भारत के सामने हमेशा ही रहती है|
बताया जा रहा है कि भारत में सबसे ज्यादा रोंहिग्या मुस्लिम जम्मू में बसे हैं, यहां करीब 10,000 रोंहिग्या मुस्लिम रहते हैं. हालांकि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार संगठन के आंकड़ों के मुताबिक फिलहाल देश में 14,000 रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थी रहते हैं.
इसे भी पढ़िए : Indian Forces Seek Rs 27 Lakh Crore Over Next 5 Years For Defense Projects
रोहिंग्या मुसलमानों द्वारा लगातार मुस्लिम कट्टरवाद व आंतकवादी गुटों में संलिप्तता व पिछले कुछ समय से अनैतिक कार्यो में सलिप्तता के कारन सरकर इन्हें देश से निकालने जा रही है|
जम्मू कश्मीर में अवैध तरीके से रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों को उनके देश म्यामांर भेजने का केंद्र सरकार प्लान बना रही है. पिछले कई वर्षों से भारत में आकर बसे रोंहिग्या मुस्लिमो को केंद्र सरकार अब गिरफ्तार कर वापिस म्यामांर भेजने का निर्णय कर सकती है. गृह मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार फॉरनर्स ऐक्ट के तहत इन लोगों की पहचान कर इन्हें वापस भेजा जाएगा.

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार म्यामांर में जारी हिंसा के बाद से अब तक करीब 40,000 रोहिंग्या मुस्लिम भारत में आकर शरण ले चुके हैं. ये लोग समुद्र, बांग्लादेश और म्यामांर सीमा से लगे चिन इलाके के जरिए घुसपैठ करके भारत में घुसे हैं. सोमवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह, गृह सचिव राजीव महर्षि, जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एस पी वैद और खुफिया एजेंसियों के प्रमुखों के साथ हुई उच्चस्तरीय बैठक में जम्मू-कश्मीर में रोहिंग्या मुसलमानों और घाटी में हिंसक हालात व् उनके आंतकवादी गुटों में सहभागिता पर गंभीर बातचीत हुई.
इसे भी पढ़िए :How dangerous is the explosion found in the UP Assembly After the explosive recovered in the Uttar Pradesh assembly there is a panic in the atmosphere NIA should probe the security lapse incident of UP assembly CM Yogi Adityanath
Read More

तीन तलाक प्रथा असंवैधानिक

September 01, 2017 0

मुस्लिम समुदाय में प्रचलित तीन-तलाक प्रथा से पीड़ित एक महिला (उत्तराखंड की शायरा बानो) सुप्रीम कोर्ट पहुंची थी। उसने भारतीय संविधान के तहत अपने अधिकार के संरक्षण की गुजारिश की। इससे सर्वोच्च न्यायालय के सामने यह मुद्दा आया कि क्या एक ही झटके में तीन बार बोलकर तलाक देने की रवायत मुस्लिम महिलाओं के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है? साथ ही ये बहस भी चली कि क्या ये प्रथा इस्लाम का अनिवार्य अंग है? खुद मुस्लिम समुदाय का एक बड़ा जनमत मानता है कि तीन तलाक जैसी प्रथाएं उनके मजहब का बुनियादी हिस्सा नहीं। इसीलिए कई इस्लामिक समाजों में इसका चलन रोका जा चुका है। मगर भारत में मुस्लिम समुदाय के भीतर से इसे बदलने की पहल नहीं हुई। अंतत: पीड़िताओं की उम्मीदें सुप्रीम कोर्ट पर जाकर टिकीं।
हर्ष की बात है कि सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें निराश नहीं किया।
हालांकि पांच सदस्यीय संविधान पीठ की राय बंटी रही, फिर भी बहुमत के निर्णय से तीन तलाक प्रथा असंवैधानिक ठहरा दी गई है। दो जज (जस्टिस आरएफ नरीमन और जस्टिस यूयू ललित) इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि ये चलन संविधान के मौलिक अधिकारों से संबंधित अनुच्छेद 14 (कानून के समक्ष समानता एवं समान संरक्षण का अधिकार) और 15 (भेदभाव पर प्रतिबंध) के विरुद्ध है। जबकि ये मामला अनुच्छेद 25 (उपासना, अपने धर्म के पालन और प्रचार के मूल अधिकार) के तहत नहीं आता। जस्टिस कुरियन जोसेफ ने इसे गैर-इस्लामी ठहराया। लेकिन दो जजों (जस्टिस जेएस खेहर और जस्टिस अब्दुल नजीर) की राय रही कि तीन तलाक भारत में इस्लाम एवं इस्लामिक पर्सनल लॉ का अभिन्न् अंग है। यह संविधान के अनुच्छेद 14, 15 और 21 (जीवन एवं स्वतंत्रता का हक) का उल्लंघन नहीं है। चूंकि तीन जजों की राय इस प्रथा के खिलाफ आई, अत: अब तीन तलाक पर अमल असंवैधानिक हो गया है। न्यायालय ने सरकार से कहा है कि इस फैसले पर अमल को सुनिश्चित करने के लिए वह उपयुक्त कानून बनाए। सरकार और सभी राजनीतिक दलों को प्रधान न्यायाधीश ने एक उचित सलाह दी है। कहा कि उन्हें अपने फायदे की सोच से उठकर उचित कानून बनाने पर गहराई से सोचना चाहिए। इस मामले में अब चूंकि संवैधानिक स्थिति स्पष्ट हो गई है, तो जाहिर है कि मामला संसद और सियासी दायरे में पहुंच गया है। वहां निर्णय का एकमात्र आधार मुस्लिम महिलाओं को मौजूदा मुसीबतों से निजात दिलाना और उनके लिए बराबरी सुनिश्चित करना होना चाहिए।
दरअसल, वांछित यही है कि पूरा समाज यही दृष्टिकोण अपनाए। आखिर इस मामले में सरकार या संसद के कदम भी तभी सार्थक होंगे, जब समाज इसके प्रति सकारात्मक नजरिया अपनाएगा। पंरपरागत रूप से स्त्रियां समानता से वंचित और कई प्रकार की कुरीतियों की शिकार रही हैं। तीन तलाक उनमें से सिर्फ एक कुप्रथा है। अब चूंकि लैंगिक न्याय की दिशा में न्यायापालिका ने अहम फैसला दिया है, तो यह सही वक्त है जब महिलाओं को सभी प्रकार के अधिकार दिलाने का संकल्प समाज ले।

Read More